0


पूरा नाम:- सचिन रमेश तेंडूलकर (Sachin Ramesh Tendulkar)
जन्म दिनांक:- 24 अप्रैल 1973
मुख्य टीमें:- इंडिया,एशिया XI,मुंबई,मुंबई इंडियंस,यॉर्कशायर

बल्लेबाज़ी शैली:-राइट-हैंड बैट
गेंदबाज़ी शैली:-राइट-आर्म ऑफ़ब्रेक, लेकब्रेक गुगली
टेस्ट पदार्पण :- 15 नवम्बर 1989
एकदिवसीय पदार्पण :- 18 दिसम्बर 1989
T-20 पदार्पण :- 01 दिसम्बर 2006
IPL पदार्पण :- 14 मई 2008


कॅरियर के आँकड़े
टेस्ट पदार्पण :-पाकिस्तान विरुद्ध भारत, कराची , 15 नवम्बर 1989

अंतिम टेस्‍ट :-भारत विरुद्ध ऑस्ट्रेलिया, 24 जनवरी 2012
एकदिवसीय पदार्पण :–पाकिस्तान विरुद्ध भारत, गुजरांवाला, 18 दिसम्बर 1989
अंतिम एकदिवसीय :-बांग्लादेश विरुद्ध भारत, मीरपुर , 16 मार्च 2012
T-20 पदार्पण :-दक्षिण अफ्रीका विरुद्ध भारत, जोहांसबर्ग , 01 दिसम्बर 2006
अंतिम T-20 :-दक्षिण अफ्रीका विरुद्ध भारत, जोहांसबर्ग , 01 दिसम्बर 2006
IPL पदार्पण :-मुंबई इंडियंस विरुद्ध चेन्नई सुपर किंग्स, मुंबई , 14 मई 2008

अंतिम IPL :-चेन्नई सुपर किंग्स विरुद्ध मुंबई इंडियंस, बैंगलुरू, 23 मई 2012

सचिन तेंडूलकर का नाम भारत में इस कदर लोकप्रिय है कि एक समय लोग सचिन को ही क्रिकेट का दूसरा नाम मानते थे. इस अकेले खिलाड़ी के पास इतने रन हैं जितना इस समय पूरी एक टीम के पास भी नहीं है. “18111” एक दिवसीय और “14692” टेस्ट रनों के साथ 99 शतक लगाने वाले सचिन के रनों की भूख अभी भी शांत नहीं हुई है.
सचिन राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित एकमात्र क्रिकेट खिलाड़ी हैं. वे सन् २००८ में पद्म विभूषण से भी पुरस्कृत किये जा चुके है. वे क्रिकेट
जगत के सर्वाधिक प्रायोजित खिलाड़ी हैं और विश्वभर में उनके अनेक प्रशंसक हैं. उनके प्रशंसक उन्हें प्यार से लिटिल मास्टर व मास्टर ब्लास्टर कह कर बुलाते हैं. क्रिकेट के अलावा वे अपने ही नाम के एक सफल रेस्टोरेंट के मालिक भी हैं.

सचिन रमेश तेंडूलकर का जन्म: 24 अप्रैल 1973 को मुम्बई में हुवा. सचिन क्रिकेट के इतिहास में विश्व के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में गिने जाते हैं.उन्होंने अपना पहला प्रथम श्रेणी क्रिकेट मैच मुंबई के लिये १४ वर्ष की उम्र में खेला. उनके अन्तर्राष्ट्रीय खेल जीवन की शुरुआत १९८९ में पाकिस्तान के खिलाफ कराची से हुई.
सन् १९८९ में अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण के पश्चात् वे बल्लेबाजी में कई कीर्तिमान स्थापित कर चुके हैं. उन्होंने टेस्ट व एक दिवसीय क्रिकेट, दोनों में सर्वाधिक शतक अर्जित किये हैं. वे टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज़्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज़ है. तेंडुलकर नियमित गेंदबाज़ नहीं हैं. किन्तु वे मध्यम तेज, लेग स्पिन व ऑफ स्पिन गेंदबाज़ी में प्रखर हैं. वे कई बार लम्बी देर से टिकी हुई बल्लेबाजों की जोडी को तोड़ने के लिये गेंदबाज़ के रूप में लाए जाते हैं. भारत की जीत पक्की कराने में अनेक बार उनकी गेंदबाज़ी का प्रमुख योगदान रहा है.
इसके साथ ही टेस्ट क्रिकेट में १४००० से अधिक रन बनाने वाले वे विश्व के एकमात्र खिलाड़ी हैं. एकदिवसीय मैचों में भी उन्हें कुल सर्वाधिक रन बनाने का कीर्तिमान प्राप्त है.

आपको पोस्ट पसंद आई हो तो Youtube पर क्लिक करके Subscribe करना ना भूलें

आपको पोस्ट कैसी लगी कोमेन्ट और शॅर करें

Post a Comment

 
Top