0

एक अमीर आदमी था l
उसके कई सारे दोस्त थे, उसमे एक दोस्त जो काफी गरीब था,
वह अमीर
आदमी का विश्वासपात्र था l
एक दिन अमीर आदमी अपने घर सभी दोस्तो को खाने
का आमंत्रण देता है,

सभी मित्र अमीर आदमी के घर आते है l
भोजन के बाद अमीर आदमी को ख्याल
आता है कि उसने एक उंगली मे कीमती हीरे जड़ित
अंगुठी पहनी हुई थी,थोड़ी ढीली होने के कारण कही गिर गई है l
सभी मित्र घर मे अंगुठी खोजने मे मदद करते है l लेकिन
नही मिलती l

एक मित्र कहता है -: "आप हम सभी की तलाशी ले सकते है l एक
आदमी की वजह से हम सभी हमेशा के लिए आप की नजर मे शक के
दायरे मे रहेगे...!!"
सभी मित्र तलाशी के लिये तैयार हो जाते है...
सिवाए एक गरीब मित्र के...
वो अपनी तलाशी देने से मना कर देता है, सभी मित्र
उसका अपमान करते है l
अमीर आदमी किसी की तलाशी ना लेकर
सभी को विदा करता है l
दूसरे दिन सुबह जब अमीर आदमी अपने कोट की अंदर वाली जेब में
हाथ डालता है तो अंगुठी मिल जाती है l
और वो सीधा गरीब मित्र के घर आता है.और अपने
मित्रों द्वारा किये गऐ अपमान की माफी माँगता है और
अपनी तलाशी ना देने की वजह पुछता है l
गरीब मित्र पलंग पर सोये हुये अपने बीमार पुत्र की ओर
इशारा करते हुए कहता है -: "मै जब आपके यहाँ आ रहा था , इस ने
मिठाई खाने की जिद की थी, आप के यहाँ जब
खाना खा रहा था तो मिठाई दिखी तो मैने वो न खाकर
अपने पुत्र के लिये जेब मे रख ली थी l
अगर तलाशी ली जाती तो अंगुठी की ना सही मिठाई
की चोरी का इल्जाम जरूर लगता इसीलिये अपमान
सहना बेहतर समझा क्योकी रात को सच बताता तो बीच मे
बेटे का नाम भी आता...और मैं
अपनी परेशानी बताना नहीं चाहता था !!"
यह सुनकर अमीर दोस्त ने उसके बेटे के इलाज के लिऐ मदद भी की।
इस कहानी से साबित होता है | माता-पिता अपनी औलाद की छोटी-छोटी खुशी के लिये
क्या-क्या सहन नहीं करते...!!!

आपको पोस्ट पसंद आई हो तो Youtube पर क्लिक करके Subscribe करना ना भूलें

आपको पोस्ट कैसी लगी कोमेन्ट और शॅर करें

Post a Comment

 
Top