0



 प्रभाव से जो जीता है,
वह जीता ही नही ।
और सारी दुनिया करीब करीब
प्रभाव से जीती है।
तुम जिसके प्रभाव मे पड गए,
संयोगवशात्,
उसके ही रंग मे रंग जाते हो।
तुम्हारी अपनी कोई निजता नहीं है ।
तुम्हारा अपने भीतर
कोई स्वयं का बोध नहीं है ,
कि तुम सोचो, विचारों ,
विमर्श करो, निर्णय लो ।
तुम्हे अपना स्मरण ही नहीं है ।
तुम्ह तो दोहराये जाते हो
जो तुम्हे कहा गया है ।
गीता पकडा दी तो
गीता दोहराते हो,
कुरान पकडा दी
तो कुरान दोहराते हो।
ना तुम्हे गीता से कुछ लेना देना
और ना कुरान से।
न तुम्हारे प्राणो मे गीता का
अनुनाद उठ रहा है
और ना हि कुरान का संगीत ।
क्योकि प्रभाव कभी भी
तुम्हारे स्वभाव तक नही पहुंच सकते...
!! ओशो !!

आपको पोस्ट पसंद आई हो तो Youtube पर क्लिक करके Subscribe करना ना भूलें

आपको पोस्ट कैसी लगी कोमेन्ट और शॅर करें

Post a Comment

 
Top