0

 

गुरू से शिष्य ने कहा:
गुरूदेव ! एक व्यक्ति ने आश्रम के लिये गाय भेंट की है।

गुरू ने कहा -
अच्छा हुआ । दूध पीने को मिलेगा।

एक सप्ताह बाद
शिष्य ने आकर गुरू से कहा:
गुरू ! जिस व्यक्ति ने गाय दी थी,
आज वह अपनी गाय वापिस ले गया।

गुरू ने कहा -
अच्छा हुआ ! गोबर उठाने की झंझट से मुक्ति मिली।

'परिस्थिति' बदले तो अपनी 'मनस्थिति' बदल लो ।
बस दुख  सुख में बदल जायेगा.।
"सुख दुख आख़िर दोनों
मन के ही तो समीकरण हैं।"

आपको पोस्ट पसंद आई हो तो Youtube पर क्लिक करके Subscribe करना ना भूलें

आपको पोस्ट कैसी लगी कोमेन्ट और शॅर करें

Post a Comment

 
Top