0

Interiew Tips

Interiew के दौरान आमतौर पर दो बातें ध्यान में रखी जाती हैं–
पहला, जिस फील्ड का Interiew आप देने आए हैं, उसके बारे में पूरा ज्ञान और दूसरी बात आपकी Body Language। बोले गए शब्द आपके कप्यूनिकेशन का केवल 8 प्रतिशत होते हैं। 37 प्रतिशत कम्यूनिकेशन आपके आवाज की टोन से होता है कि आप धीमा, तेज, प्रभावी किस आवाज में बोल रहे हैं। लेकिन 55 प्रतिशत कम्यूनिकेशन सिर्फ आपकी Body Language से होता है। बॉडी लैंग्वैज, ऎसा नानवर्बल कम्यूनिकेशन है, जो आपकी आदतों, स्वभाव और मन की स्थिति से पैदा होता है। Interiew क्लीयर करना कई बार कॉन्फिडेंस और प्रेजेंस ऑफ माइंड पर निर्भर करता है। इसके लिए Body Language महत्वपूर्ण कारक होता है। किसी व्यक्ति के भाव, विचार और आदत में अंतसंबंध होता है। तीनों ही एक दूसरे से प्रभावित होते हैं। Body Language भी इन तीनों से मिलकर तैयार होती है। इसमें बदलाव से आपमें कॉन्फिडेंस का लेवल बढ सकता है। रोजगार के इस चैनल में इस बार हम आपके लिए लाए हैं,




Interiew के दौरान आमतौर पर दो बातें ध्यान में रखी जाती हैं- पहला, जिस फील्ड का Interiew आप देने आए हैं, उसके बारे में पूरा ज्ञान और दूसरी बात आपकी Body Language। बोले गए शब्द आपके कप्यूनिकेशन का केवल 7 प्रतिशत होते हैं। अपने कंधों को आराम की मुद्रा में रखें। थोडा आगे की ओर झुककर बात करने वाला व्यक्ति साफ दिल-दिमाग का माना जाता है, लेकिन ज्यादा आगे की ओर झुके लोग चापलूस मालूम होते हैं। पैरे सीधे रखें, इसे क्रॉस नहीं रखें। क्रॉस पैर प्रतिरक्षात्मक संकेत देते हैं। इससे लगता है कि आपके मन में कुछ भय है या आप कुछ छुपाना चाहते हैं। आंखों में आंख डालकर बात करें। दूसरों की ओर देखने से लगता है कि आप उसकी बात को पूरा महत्व दे रहे हैं। बात के दौरान हामी भरें। इसके लिए बातों का दोहराव नहीं करते हुए गर्दन हिलाना बेहतर होता है।

हामी भरने के लिए बात का दोहराव करना शिष्टाचार में भी नहीं आता है। चेहरे पर अतिगंभीरता किसी को नहीं सुहाती है। हल्की-सी मुस्कान रखें। जरूरत पडने पर हंसें भी। खुश रहने के लिए होठों पर यूं ही मुस्कान चिपका लें, फिर देखिए आपकी तमाम मुश्किलें कैसे छूमंतर हो जाती हैं। अपना चेहरा छुएं नहीं। यह सामने वाले को डाइवर्ट करता है। साथ ही बताता है कि आप नर्वस हैं। किसी एक तरफ झुककर नहीं बैठें। सीधे बैठें, लेकिन आराम की मुद्रा में बैठें। अगर आप आगे की ओर झुके हैं, तो इससे पता चलता है कि आपको सामने वाले की बातों में रूचि है, वहीं पीछे की ओर ज्यादा झुके लोगों ओवरकॉन्फिडेंट लगते हैं।.

Interiew के दौरान Body Language

Interiew के दौरान आपकी योग्यता, व्यक्तित्व जैसे कई अहम पहलुओं को परखने की एक कसौटी आपकी Body Language यानी आपके हाव-भाव है।
आप कितने भी जानकार क्यों न हों लेकिन आपके उठने-बैठने का तरीका और हाव-भाव आपके कहे का समर्थन नहीं कर रहे तो Interiew निकालना आपके लिए मुश्किल हो सकता है, खासतौर पर तब जब Interiew के दौरान मनोचिकित्सक भी आपके पैनल में मौजूद हों।

आइए जानें, Interiew के दौरान आपको अपनी Body Language से जुड़ी किन बातों का ध्यान देना चाहिए जिससे खुद को प्रभावी ढंग से सामने रख सकें।

1. प्रवेश के साथ ही आपकी परीक्षा शुरू

Interiew के दौरान आपकी परीक्षा कमरे में प्रवेश करते ही शुरू हो जाती है। कमरे में घुसने के साथ आपके चेहरे पर मुस्कान और आत्मविश्वास झलकना चाहिए।
जाते ही कुर्सी पर बैठने के बजाय सामने वाले के इशारे का इंतजार करें। अगर टेबल के आस-पास कई कुर्सियां हैं तो वह जगह चुनें जहां आपके सामने बैठे व्यक्ति को आपसे बात करने के लिए कम से कम मुड़ना पड़े।

2. आप कैसे बैठते हैं

बैठने के दौरान अपने पॉश्चयर पर ध्यान दें। आपके शरीर की मुद्रा ऐसी होनी चाहिए जिससे आपका आत्मविश्वास और विनम्रता, दोनों का संतुलन दिखे। दोनों पैर जमीन पर रखकर सीधा बैठें। सामने टेबल है तो उसपर हाथ रख सकते हैं नहीं तो दोनों हाथों को अपनी गोद में रखें। अकड़कर बैठने के बजाय आगे की ओर हल्का झुकें।

3. पहले खुद आराम महसूस करें

परीक्षक के सामने बैठने का मतलब यह नहीं कि आप इतने सतर्क हो जाएं क‌ि आपका ध्यान सवालों के जवाब के बजाय अपने ऊपर ही हो। आप जिस मुद्रा में बैठें उसमें आराम महसूस करें। बहुत सिकुड़कर या झुककर बैठने से भी आपका व्यक्तित्व दबा लग सकता है।

4. हाथों पर दें ध्यान

Interiew के दौरान अपने विचार रखते वक्त या जवाब देते वक्त हाथों को बहुत अधिक हिलाकर बात न करें। अगर हाथ हिलाकर बात करना आपकी आदत में शुमार है तो इतना ध्यान रखें कि बात करते वक्त हाथ सीने से ऊपर न उठे। इससे आपका व्यवहार आक्रामक लग सकता है।
कुछ लोगों की आदत होती है टेबल पर पड़ी कमल या किसी चीज को हाथ में लेकर उससे खेलते रहना। Interiew के दौरान इस तरह की कोई गतिविधि न करें क्योंकि इससे आपकी एकाग्रता पर सवाल उठ सकते हैं।
और हां, हाथों को मोड़कर बैठने की कतई गलती न करें। आपकी कतई सुरक्षात्मक होने की जरूरत नहीं है।

5. बात करते वक्त छोटी-छोटी बातें

परीक्षक से बात करते वक्त आंखों में आंखें डालकर बात करना सही तरीका है। इससे आपका आत्मविश्वास झलकता है।
Interiew के दौरान हर कोई थोड़ा बहुत नर्वस जरूर होता है। ऐसे में अपनी घबराहट को छिपाने के लिए बनावटी मुस्कान का कतई सहारा न लें। हल्की घबराहट तो बातचीत के दौरान अपनेआप दूर हो जाती है। चेहरे पर सामान्य मुस्कान जरूर रखें। हां, बेवजह हंसने-हंसाने की जरूरत नहीं है।
Interiew के दौरान अगर परीक्षक आपको पानी या चाय ऑफर करता है तो इसे सामान्य रूप से लें। अगर आपको प्यास लगी है तो पानी पीकर सामान्य होना समझदारी है न कि प्यासा रहकर बेचैन रहना। लेकिन आप यह भी ध्यान रखें कि आप घबराहट में जल्दी-जल्दी पानी पीते हैं तो यह भी सामान्य नहीं है।
Interiew के दौरान बार-बार बालों पर हाथ फेरना, कपड़े ठीक करना आदि छोटी-छोटी बातें आपकी घबराहट सामने रख देती हैं।
बातचीत के दौरान आप जो नहीं हैं, वह बनने का प्रयास करना निरर्थक है। आप जो हैं, उसे संवारकर पेश करना ही समझदारी है।

आपको पोस्ट पसंद आई हो तो Youtube पर क्लिक करके Subscribe करना ना भूलें

आपको पोस्ट कैसी लगी कोमेन्ट और शॅर करें

Post a Comment

 
Top